Friday, July 19, 2024

Rajmahal सीट पर मतगणना जारी, विजय हांसदा पहली राउंड में ताला मरांडी से छह हजार वोट से आगे

राजमहल सीट पर मतगणना जारी, विजय ने कहा हमारी जीत पक्क 

—- राजमहल सीट पर पहले राउंड की संपन्न की कगार पर

साहिबगंज: पूरे देश में लोकसभा चुनाव को लेकर मतगणना जारी हो चुकी है। पूरे देश की नजर आज ईवीएम पर टिकी है, सुबह दस बजे के गिनती तक एनडीए 305 और इंडिया गठबंधन 207 सहित अन्य 24 की बढ़त बनाए दिखे, परंतु ये फाइनल मतगणना नहीं है। देश में किसकी बनेगी सरकार, अभी भी संसय बरकरार है। एक्जिट पोल के अनुमान के अनुसार NDA की सरकार तीसरी बार सरकार बनाने जा रही है। वहीं एक्जिट पोल को लेकर इंडिया गठबंधन के नेताओं ने इसे बोगस और निराधार बताया है।

राजमहल सीट पर गिनती जारी:

वहीं झारखंड के राजमहल सीट पर साहिबगंज जिले के पॉलीटेक्निक कोलेज में बने मतगणना स्ट्रांग रूम में गिनती जारी है। दस बजे तक पोस्टल वैलेट की गिनती जारी थी और ईवीएम की पहली राउंड की गिनती में बीजेपी उम्मीदवार ताला मरांडी बढ़त बनाए हुए है। वहीं मतगणना जारी है, हॉल के भीतर इंडिया गठबंधन के उम्मीदवार विजय हांसदा बैठे नजर आए। वहीं सरकारी आंकड़ों के अनुसार विजय हांसदा 16922 वोट, ताला मरांडी को 10222, लॉबिन हेंब्रम 1624, आगे की गिनती जारी है।

लॉबिन के आने से हुई कांटे की टक्कर:

वही राजमहल सीट पर झारखंड मुक्ति मोर्चा के बागी विधायक सह निष्काशित सदस्य लॉबिन हेंब्रम के चुनाव में कूदने के बाद इस सीट कर त्रिकोणीय मुकाबला बन चुका है। एक्जिट पोल की माने तो जहां लाखो के वोटों से हार जीत का फैसला होता था, इस बार लॉबिन के आने से वो अंतर 10 से 20 हजार का हो सकता है। इस बार ताला मरांडी और विजय हांसदा में कांटे की टक्कर बनी हुई है। जिसका फैसला आज सबके सामने होगा। वहीं इस चुनाव में लॉबिन हेंब्रम की भी अग्नि परीक्षा है।

इस बार की जीत के साथ ही क्या विजय हांसदा की होगी हैट्रिक?

विजय कुमार हांसदा यह एक जाना पहचाना नाम है, जिनको राजनीति विरासत में मिली, इनके पिता स्वर्गीय थॉमस हांसदा 90 के दशक में राजमहल विधानसभा से विधायक, सांसद और मंत्री भी रह चुके थे, लेकिन कहते है ना ताजपोशी नसीब वालो को ही होती है और यही हुआ 2014 में। जब झारखंड मुक्ति मोर्चा के टिकट पर प्रथम बार विजय कुमार हांसदा को सांसद का टिकट दिया गया। पिता के नाम का साया और उनके किए कार्यों ने विजय को कम उम्र में ही सांसद बना दिया। इसके बाद दोबारा 2019 में भी उन्होंने अपने निकटम प्रतिद्वंदी भाजपा के हेमलाल मुर्मू को एक लाख से भी अधिक वोटो से पराजित करते हुए सांसद चुने गए। जिसके बाद तीसरी बार 2024 में भाजपा से इनके इनके प्रतिद्वंदी बने ताला मरांडी है। लेकिन आंकड़ों की समीक्षा की जाए तो विशेष रूप से मुस्लिम और आदिवासी वोट ही इनको हैट्रिक लगवा सकती है। बरहाल जीत किसके सर पर होगी, क्या विजय कुमार हांसदा हैट्रिक मारने में कामयाब होंगे या फिर भाजपा के उम्मीदवार ताला मरांडी जीत का सेहरा पहन दिल्ली जाएंगे, यह तो कुछ ही घंटे में स्पष्ट हो जाएगा।

आप की राय

राष्ट्रियपति द्रोपदी मुर्मू को नवनिर्मित संसद भवन में आमंत्रित नहीं करना, सही या गलत ?

Our Visitor

027666
Latest news
Related news