Wednesday, May 29, 2024

अवध बिहारी चौधरी बने आरजेडी से दूसरे स्पीकर, पहले देवनारायण यादव को मिला था मौका

बिहार विधानसभा को आज नया स्पीकर मिल गया है, अवध बिहारी चौधरी बिहार विधानसभा के नए स्पीकर बन गए हैं. नीतीश कुमार ने उनका सदन में स्वागत किया.

अवध बिहारी चौधरी बिहार विधानसभा के अध्यक्ष बन गए हैं. विजय कुमार सिन्हा के इस्तीफे के बाद बिहार विधानसभा को नया स्पीकर मिल गया है. चौधरी के निर्वाचन की अधिकारिक घोषणा विधानसभा में की गई. शुक्रवार को जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तब सबसे पहले विधानसभा सचिव ने सदन में स्पीकर के चुनाव को लेकर पूरी प्रक्रिया को पढ़ा और उनके निर्वाचित होने की घोषणा की. राष्ट्रीय जनता दल के सीनियर नेता अवध बिहारी चौधरी विधानसभा के निर्विरोध अध्यक्ष चुने गए हैं. दरअसल गुरुवार को केवल अवध बिहारी चौधरी ने ही नामांकन किया था जिसके बाद उनका निर्विरोध चुनाव हुआ है.

सदन का संचालन कर रहे डिप्टी स्पीकर महेश्वर हजारी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार सिन्हा से आग्रह किया कि वह स्पीकर को आसन तक ले जाएं. तब सीएम नीतीश कुमार और नेता प्रतिपक्ष विजय कुमार चौधरी स्पीकर अवध बिहारी चौधरी को आसन तक ले गए.

आरजेडी से हैं अवध बिहारी चौधरी

इससे पहले आरजेडी ने विधानसभा अध्यक्ष के लिए उनका नाम आगे बढ़ाया था जिसके बाद विधायक दल की बैठक में उनके नाम पर मुहर लगी थी. बुधवार को बिहार विधानसभा के स्पीकर विजय कुमार सिन्हा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. इस्तीफा देने से पहले उन्होंने अपने भाषण में नीतीश कुमार के पाला बदल कर आरजेडी के साथ सरकार बनाने के लिए उनपर खूब तंज किया था.

आरजेडी के दूसरे स्पीकर चौधरी

बिहार विधानसभा के नए स्पीकर बने अवध बिहारी चौधरी आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के करीबी हैं और उनके पसंदीदा नेताओं में उनकी गिनती होती है. आरजेडी की स्थापना के बाद अवध बिहारी चौधरी पार्टी के दूसरे अध्यक्ष होंगे. इससे पहले देवनारायण यादव आरजेडी से विधानसभा के अध्यक्ष रह चुके हैं. वह 1995 से 2000 तक विधानसभा स्पीकर के पद पर रहे. इसके बाद आरजेडी के समर्थन से 2000 से 2005 तक कांग्रेस के सदानंद सिंह स्पीकर रहे थे. पहली बार जब बिहार में महागठबंधन की सरकार बनी थी तब विजय कुमार चौधरी विधानसबा के अध्यक्ष बने थे

विजय कुमार सिन्हा नेता प्रतिपक्ष

अवध बिहारी चौधरी से पहले एनडीए की सरकार में बिहार विधानसभा में विजय कुमार सिन्हा बिहार विधानसभा के अध्यक्ष थे. बीजेपी नेता विजय कुमार सिन्हा लखीसराय से लगातार चुनाव जीतते रहे हैं. स्पीकर रहते विजय कुमार सिन्हा और नीतीश कुमार के रिश्ते कभी अच्छे नहीं रहे यह सार्वजनिक तौर पर भी सामने आया था. और अब बीजेपी ने उन्हें विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष बनाया है. नेता प्रतिपक्ष बनने के बाद से ही विजय कुमार सिन्हा नीतीश तेजस्वी सरकार पर हमलावर हैं.

आप की राय

राष्ट्रियपति द्रोपदी मुर्मू को नवनिर्मित संसद भवन में आमंत्रित नहीं करना, सही या गलत ?

Our Visitor

027291
Latest news
Related news