Thursday, February 22, 2024

Income Tax Raid: देवघर में आयकर विभाग का छापा, ‘गुंडा बैंक’ और गोल्ड तस्करी से जुड़े हैं तार… जानिए पूरा मामला

देवघर: देवघर में पटना से आई इनकम टैक्स के अधिकारियों की टीम ने एक ज्वैलरी शो रूम और एक प्रतिष्ठान में छापा मारा। यह छापेमारी गोल्ड स्मगलिंग और गुंडा बैंक के ज़रिए अवैध तरीके से जुटाई गई सम्पत्ति और धन के खिलाफ की गई। बताया जा रहा है कि IT की टीम ने एक साथ 6 से ज्यादा ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई को अंजाम दिया है। छापेमारी देर शाम तक चली।


क्या है ‘गुंडा बैंक’?
आयकर विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, अवैध तरीके से कर्ज देने, फाइनांस करने और फिर वसूली के नाम पर सम्पत्ति और ज़मीन कब्जाने का धंधा करने वालों को आयकर विभाग ने गुंडा बैंक का नाम दे रखा है। इस तरह का गैरकानूनी धंधा कर कुछ लोगों ने अकूत अवैध सम्पत्ति बनाई है। लिहाजा इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने ऐसे लोगों की सूची बनाकर बिहार के बाद अब झारखंड में भी अपनी कार्रवाई तेज कर दी है।

भागलपुर के डिप्टी मेयर के शो रूम में पड़ा छापा
देवघर के वीआईपी चौक के समीप जिस हरिओम लक्ष्मीनारायण ज्वेलर्स के शो रूम में बुधवार की सुबह IT की रेड हुई। यह भागलपुर के डिप्टी मेयर सह लोजपा जिलाध्यक्ष राजेश वर्मा का है। इसके अलावा देवघर के ही खेतान प्रतिष्ठान पर भी आयकर विभाग की एक टीम ने अपनी कार्रवाई की। बताया जा रहा है कि दोनों जगहों पर छापेमारी के दौरान बगैर कागजात के गोल्ड की खरीद-बिक्री के अलावा ‘गुंडा बैंक’ चलाने से जुड़े मामलों की बारीकी से जांच की गई। हालांकि जांच में क्या कुछ मिला है, आयकर विभाग की टीम ने इसकी जानकारी नहीं दी।

इतना ही नहीं राजेश वर्मा के भागलपुर में खरमन चौक स्थित आवास, ज्वेलरी शॉप के अलावा पूर्णिया में भी आयकर विभाग की टीम ने छापेमारी की है।

झारखंड में होती रही है विदेशी गोल्ड की तस्करी
गौरतलब है कि झारखंड में पहले भी विदेशी गोल्ड की तस्करी के मामले सामने आ चुके हैं। इससे पहले भी ED की टीम ने बीते 10 अगस्त को झारखंड और छत्तीसगढ़ में एक साथ 22 ठिकानों पर छापेमारी की कार्रवाई कर 16 किलो 655 ग्राम सोने के गहनों और बिस्किट के अलावा 671.77 किलो चांदी बरामद की थी।

पटना HC ने जांच के लिए बनाई थी SIT
बता दें कि गुंडा बैंक से जुड़े तमाम मामलों की जांच के लिए पटना HC ने एक SIT का गठन किया था, जिसके बाद कटिहार, अररिया और किशनगंज में ‘गुंडा बैंक’ के सर्वाधिक मामले सामने आए थे।

Source link

आप की राय

राष्ट्रियपति द्रोपदी मुर्मू को नवनिर्मित संसद भवन में आमंत्रित नहीं करना, सही या गलत ?

Our Visitor

026397
Latest news
Related news