Wednesday, May 29, 2024

AIRF ने खोला मोर्चा, जो पेंशन बहाल करेगा, वही देश पर राज करेगा : शिवगोपाल मिश्रा

पुरानी पेंशन के लिए AIRF ने खोला मोर्चा, जो पेंशन बहाल करेगा, वही देश पर राज करेगा : शिवगोपाल मिश्रा

जोधपुर 2 मार्च ! ऑल इंडिया रेलवेमेन्स फेडरेशन ने पुरानी पेंशन बहाली के लिए सरकार के खिलाफ सीधा मोर्चा खोल दिया है ! AIRF की वर्किंग कमेटी में आने वाले सभी राज्यों के चुनाव में सरकार को वोट की चोट देने के लिए अभी से वातावरण बनाने का फैसला लिया गया ! वर्किंग कमेटी ने संकल्प लिया कि जो पुरानी पेंशन बहाल करेगा , वही देश पर राज करेगा ! महामंत्री शिवगोपाल मिश्रा ने साफ किया है कि अगर सरकारी कर्मचारियों को पुरानी पेंशन नहीं तो 2024 में मोदी सरकार भी नहीं रहेगी ! फेडरेशन के अध्यक्ष डॉ एन कन्हैया ने कहाकि अब हम सरकार के किसी बहकावे आने वाले नहीं है , हमने देख लिया है कि जब तक हम सरकार के खिलाफ डर पैदा नही करेंगे, सरकार हमारी माँग पर गंभीर नही होगी !
जोधपुर में आयोजित AIRF की वर्किंग कमेटी में वैसे तो कई मुद्दों पर विस्तार से चर्चा हुई, लेकिन सबसे ज्यादा पुरानी पेंशन बहाली का मसला छाया रहा ! ज्यादातर नेताओं का मानना था कि अब हमें सरकार से दो दो हाथ कर ही लेना चाहिए ! वर्किंग कमेटी में महामंत्री ने कहाकि सरकार मानती है उसके पास 2024 के लिए सिर्फ 400 दिन है , जबकि सरकारी कर्मचारियों के पास पुरानी पेंशन बहाली और भविष्य बनाने के लिए सर्फ 300 दिन ही है ! ऐसे में अब हमें बिना वक्त गवाएं सड़क पर उतर जाना होगा, क्योकि अब हमारे पास इसके अलावा कोई विकल्प नही है ! उन्होंने कहाकि 24 के पहले कई राज्यों में चुनाव होने है , इसलिए वोट की चोट देने के लिए हमे अभी से वातावरण के निर्माण में जुट जाना चाहिए !
महामंत्री ने कहाकि वैसे तो रेलकर्मियों की कई और भी गंभीर समस्या है , जिस पर हम लगातार काम कर रहे है और पक्का यकीन है कि हमें कामयाबी भी मिलेगी, लेकिन पुरानी पेंशन की बहाली एक ऐसा गंभीर मसला है , जो युवा रेलकर्मियों को सामाजिक सुरक्षा देने वाला है , इसलिए इस मॉग से हम पीछे हटने वाले तो बिल्कुल भी नहीं है ! उन्होंने कहाकि एनजेसीए में भी ये मुद्दा हमारी प्राथमिकता में शामिल है और हर बैठक में इस पर चर्चा होती है, लेकिन सरकार ध्यान नहीं दे रही है। श्री मिश्रा ने फिर दोहराया कि अब यह समय आपसी विवाद का बिल्कुल नहीं है, मुद्दा ऐसा है जिससे हर केंद्रीय कर्मचारी, राज्य कर्मचारी, शिक्षक जुड़ा हुआ है , इसलिए हमें एक झंड़े के नीचे आना ही होगा। हमारी कोशिश है कि हम इस लड़ाई को नीचे गांव, ब्लाक स्तर से लेकर राज्य और केंद्र तक ले आएँ।
श्री मिश्रा ने कहाकि NPS के जरिए सरकारी कर्मचारियों को लूटा जा रहा है , ये हमे कत्तई बर्दास्त नहीं है ! आज पुरानी पेंशन की बात पर अर्थव्यवस्था का रोना रोया जा रहा है , एक ओर नेताओं को मनमानी पेंशन दी जा रही है, कर्मचारियों के नाम पर हमें खाली खजाना दिखाया जा रहा है ! अब ये सब चलने वाला नही है ! महामंत्री ने चेतावनी दी कि अगस्त तक हमारी पेंशन बहाल नहीं हुई तो सितंबर महीने से आम हड़ताल का एलान कर दिया जाएगा ! महामंत्री ने कहाकि हस्ताक्षर अभियान में जो उत्साह हमने देखा है , उससे यकीन हुआ है कि इस लड़ाई को हम जरुर जीतेंगे ! बस हमे सरकार के भीतर डर पैदा करना होगा ! जब तक उसे 2024 का डर नहीं सताएगा, ये हमारी बात आसानी से नही सुनने वाले है ! श्री मिश्रा ने कहाकि हम कब तक 60, 68, 74 की हड़ताल का इतिहास बताते रहेंगे, समय की माँग है कि हम खुद इतिहास बनाएं, इसके लिए हमें जमीन पर कुछ करके दिखाना होगा !
फेडरेशन के अध्यक्ष डॉ एन कन्हैया ने कहाकि हम सरकार के किसी बहकावे में आने वाले नही है , हमारे रेलकर्मियों का भविष्य दॉव पर लगा है ! अगर हमारे इस आंदोलन और विरोध पर भी सरकार ने ध्यान नही दिया तो हम बैठक करके देशव्यापी आम हड़ताल का निर्णय ले सकते है, इसमें रेलगाड़ी समेत देश की सभी गतिविधियों को ठप कर दिया जाएगा ! सरकार का विरोध करने के लिए एक एक्शन प्लान आप सभी को पहले ही भेजा जा चुका है , इसी प्लान के तहत हमें आगे बढ़ना है !
फेडरेशन के कार्यकारी अध्यक्ष जे आर भोसले ने कहाकि जब हमारे साथियों ने हस्ताक्षर अभियान की शुरुआत की तभी कर्मचारियों की प्रतिक्रिया मिलने लगी, लोगों का कहना था कि अब लाल झंडे वाले मैदान में उतरे है, निश्चित रूप से ये पेंशन बहाली की लड़ाई को निर्णायक मोड़ तक ले जाएंगे ! कर्मचारियों के भरोसे से यूनियन के साथियों का उत्साह बढ़ना स्वाभाविक है ! वरिष्ठ नेता फेडरेशन के कोषाध्यक्ष शंकरराव ने कहाकि आज तक जो भी सुविधाएं रेलकर्मियों को मिल रही है , सभी के पीछे AIRF का संघर्ष शामिल है , ये बात हमे नही भूलनी चाहिए , बल्कि युवा रेलकर्मियों को भी समझाने की जरूरत है ! फेडरेशन के उपाध्यक्ष राजा श्रीधर ने कहाकि हमे एक बुकलेट प्रकाशित करने की योजना पर काम करना चाहिए, इस बुकलेट में हमे अपनी उपलब्धियों को शामिल करना होगा, जिससे लोगो को न सिर्फ हमारी उपलब्धियों की जानकारी हो बल्कि हमारे संघर्ष और बलिदान का भी ज्ञान हो सके !
NWREU के महामंत्री और फेडरेशन के सहायक महामंत्री मुकेश माथुर ने वर्किंग कमेटी के सभी साथियों का स्वागत करते हुए कहाकि राजस्थान की धरती का संघर्ष का एक स्वर्णिम इतिहास रहा है , हमें खुशी है कि पुरानी पेंशन बहाली के लिए इसी धरती पर एक अहम फैसला लिया गया है , ऐसे में हम जरूर कामयाब होंगे ! उन्होंने कहाकि जो लड़ाई हम लड़ने जा रहे है, उसके लिए हमे अपने कैडर को भी पूरी तरह तैयार रखने की जरूरत है ! उन्होंने कहाकि कुछ राज्यों ने पुरानी पेंशन बहाल करने का फैसला कर लिया है, इसमें राजस्थान भी शामिल है, ऐसे में हमे अपनी लड़ाई खुद लड़नी होगी, राज्यकर्मियों से कितना सहयोग मिलेगा , इस पर कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी !
वर्किंग कमेटी की बैठक को जोनल महामंत्री वेणु पी नायर, आर डी यादव, मुकेश गालव, आशीष विश्वास, एस एन पी श्रीवास्तव, एस के त्यागी, एल एन पाठक, एन पी सिंह, राजेन्द्र सिंह, मनोज बेहरा, बसंत चतुर्वेदी, आर सी शर्मा, के श्रीनिवास, जया अग्रवाल, प्रवीना सिंह, चंपा वर्मा, गौतम मुखर्जी, राघवेंद्र ,दिनेश पांचाल, एस यू शाह, पी जे शिंदे, शीतला प्रसाद श्रीवास्तव, पियूष चक्रवर्ती, दामोदर राव , जी एस पूरी समेत तमाम अन्य लोगो ने संबोधित किया !

आप की राय

राष्ट्रियपति द्रोपदी मुर्मू को नवनिर्मित संसद भवन में आमंत्रित नहीं करना, सही या गलत ?

Our Visitor

027291
Latest news
Related news